RTR Full Form in Banking/Finance | RTR का फुल फॉर्म क्या है?

इस पोस्ट में आपको RTR की पूरी जानकारी प्राप्त होगी RTR क्या है, RTR full form in Banking, RTR full form in Hindi क्या होता है, आरटीआर की पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़ें। 

आरटीआर के विषय में आपने पहले कभी ना कभी जरूर सुना होगा लेकिन क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है कि आरटीआर आखिर क्या है?

वैसे तो अगर आप इसके बारे में सर्च करेंगे तो आपको आरटीआर के बहुत सारे फुल फॉर्म नजर आएंगे लेकिन यहां हम जिस आरटीआर की बात कर रहे हैं वह बैंकिंग से संबंधित है। 

यदि आप बैंक के क्षेत्र में कार्य करते हैं तो आपको इसके बारे में जरूर पता होगा लेकिन बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्हें इस बात का ज्ञान नहीं होता कि आरटीआर क्या है या फिर आरटीआर फुल फॉर्म इन बैंकिंग (RTR Full Form In Banking) क्या है।

यदि आपने इंटरनेट पर इस विषय के बारे में सर्च किया है और आपको बेहतर परिणाम नहीं मिल पाए हैं तो आप आज बिल्कुल सही जगह पहुंच चुके हैं क्योंकि यहां हम आपको आरटीआर फुल फॉर्म इन बैंकिंग (RTR Full Form In Banking) की संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं। 

आरटीआर के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए जरूरी है कि आप इस पोस्ट को आखिर तक जरूर पढ़ें क्योंकि यहां हम आपको आरटीआर फुल फॉर्म इन बैंकिंग (RTR Full Form In Banking) के अलावा यह भी बताने वाले हैं कि आरटीआर क्या होता है। 

यह बहुत ही आम सवाल है जो अक्सर लोगों द्वारा पूछा जाता है वहीं कई बार इससे संबंधित प्रश्न परीक्षाओं में भी पूछे जाते हैं इसलिए यह जरूरी है कि आपको इसकी जानकारी हो। वहीं यदि आप बैंकिंग के क्षेत्र में अपना करियर बना रहे हैं तब आपको यह जानना और भी ज्यादा जरूरी हो जाता है कि आरटीआर क्या है।

तो चलिए बिना देर किए हुए सबसे पहले यही जानते हैं कि आरटीआर फुल फॉर्म इन बैंकिंग (RTR Full Form In Banking) क्या है।

RTR Full Form in Banking (RTR Ka Full Form क्या है?)

RTR Full Form in Banking

आरटीआर के बहुत सारे फुल फॉर्म आपको मिल जाएंगे जो कई क्षेत्रों में पाए जाते हैं और हर क्षेत्र में इसका महत्वपूर्ण उपयोग किया जाता है जैसे कि वित्त, विमानन, लेखा, स्टाफिंग, SAP, बैंकिंग आदि।

लेकिन आज हम जिस RTR की जानकारी आपको देने वाले हैं वह बैंकिंग से संबंधित हैं अर्थात हम आपको आरटीआर फुल फॉर्म इन बैंकिंग की जानकारी प्रदान करने वाले हैं तो आइए जानते हैं कि ये क्या है।

बैंकिंग में आरटीआर का फुल फॉर्म रीपेमेंट ट्रेक रिकॉर्ड (Repayment Track Record) होता है, जिसे हिंदी भाषा में चुकौती ट्रैक रिकॉर्ड कहते हैं।

R: Repayment (रीपेमेंट)

T: Track (ट्रैक)

R: Record (रिकॉर्ड)

क्या अब आप जान गए हैं कि रीपेमेंट ट्रेक रिकॉर्ड क्या है? यदि नहीं तो आइए एक बार इसके हिंदी फुल फॉर्म पर नजर डालते हैं जिसके बाद शायद आप इसे परिभाषित करने में सक्षम होंगे।

RTR का हिंदी फुल फॉर्म चुकौती ट्रैक रिकॉर्ड होता है जिसे चुकौती पिछला कार्य निष्पादन अभिलेख या पुनर्भुगतान ट्रैक रिकॉर्ड भी कहा जाता है।

R: पुनर्भुगतान

T: ट्रैक

R: रिकॉर्ड

कहीं ना कहीं इसके फुल फॉर्म से आपको थोड़ा बहुत आइडिया आ गया होगा कि इसके अंतर्गत किस प्रकार का कार्य किया जाता है। लेकिन यदि आपको यह समझ नहीं आ रहा कि RTR आखिर क्या है तो चलिए हम आपको बताते हैं।

RTR क्या है?

जैसा कि आप जान चुके हैं आरटीआर (RTR) का फुल फॉर्म रीपेमेंट ट्रेक रिकॉर्ड (Repayment track record) है जिसे हिंदी में पुनर भुगतान ट्रैक रिकॉर्ड कहा जाता है। इसके नाम से ही समझ आ जाता है कि यह आखिर क्या है।

आरटीआर (RTR) एक लोन स्टेटमेंट है जिसके अंतर्गत लोन से संबंधित आवश्यक जानकारी मौजूद होती है। यहां यह रिकॉर्ड करके रखा जाता है कि लोन का ब्याज कितना है, कितना लोन चुका दिया गया है और कितना पेमेंट करना बाकी है। इसके अलावा कुछ और भी आवश्यक जानकारियां इसके अंतर्गत रखी जाती है।

सीधे शब्दों में यह एक ऐसा रिकॉर्ड है जहां बैंक को ग्राहकों द्वारा चुकाए गए लोन और बची हुई पेमेंट की सारी जानकारी उपलब्ध होती है।

अब आप समझ गए होंगे कि आरटीआर क्या है लेकिन लोगों के मन में यह सवाल भी आता है कि आखिर आरटीआर की जरूरत क्यों पड़ती होगी या फिर आरटीआर लोन स्टेटमेंट क्या है?

क्या इस तरह के सवाल आपके मन मे भी आ रहे है? अक्सर लोग गूगल पर इस सवाल को सर्च किया करते हैं लेकिन बहुत कम सटीक परिणाम लोगों को उपलब्ध होते हैं इस वजह से उन्हें संपूर्ण जानकारी प्राप्त नहीं हो पाती।

तो चलिए हम आपको बताते हैं कि आरटीआर लोन स्टेटमेंट क्या है और इसके अंतर्गत समस्त डाटा को रिकॉर्ड करके रखने की जरूरत क्यों पड़ती है।

RTR Loan Statement

आरटीआर लोन स्टेटमेंट ऐसा प्रोसेस है जिसकी जरूरत बैंकिंग में बहुत ज्यादा है। जैसा कि आप जानते हैं कि इसके अंतर्गत लोन का सारा विवरण और लेखा-जोखा मौजूद होता है जिससे यह पता चलता है कि कितना लोन लिया गया और उसमें से कितना भुगतान कर दिया गया है और साथ ही उस लोन पर कितना ब्याज चुकाया जाना है।

जैसा कि आप जानते हैं कि बैंकों में बहुत सारे ग्राहक होते हैं जो अक्सर लोन लिया करते हैं ऐसे में यदि इनके स्टेटमेंट को रिकॉर्ड करके नहीं रखा जाएगा तो बैंकों को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ सकता है इसलिए सारी स्टेटमेंट को रिकॉर्ड करके रखा जाता है ताकि किसी भी तरह से समस्या उत्पन्न ना हो।

इसके अंतर्गत हर महीने किये जाने वाले भुगतान से आंशिक भुगतान और अन्य शुल्क का विवरण भी प्राप्त किया जा सकता है, इसलिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण है।

आइये अब आरटीआर (RTR) स्टेटमेंट पर नज़र डालते हैं:-

  • RTR एक ऐसी तालिका है जहाँ मूलधन (दिए गए लोन की जानकारी) और मूलधन पर चुकाये जाने वाले ब्याज आदि की जानकारी शामिल की जाती है। 
  • इसमें PMI और MI की जानकारी उपलब्ध होती है।
  • चुकाये गए लोन की जानकारी होती है।
  • आंशिक भुगतान की जानकारी होती है।
  • लगाए गए अन्य शुल्क की जानकारी होती है।
  • यदि आप अपने ऋण खाता विवरण अर्थात RTR का रिकॉर्ड देखना चाहते है तो यूजरनेम और पासवर्ड के जरिये प्राप्त कर सकते है और [email protected] पर मेल कर सकते है।

तो इस तरह RTR बैंकिंग में बहुत जरूरी होता है। यहाँ दिए गए स्टेटमेंट को देखते हुए आप RTR समझ सकते हैं, या RTR का रिकॉर्ड आप चाहें तो चेक कर सकते है।

RTR से जुड़े सवाल जवाब (FAQS)

RTR का मतलब क्या होता है?

RTR का मतलब Repayment Track Record होता है, जिसे हिंदी भाषा में चुकौती ट्रैक रिकॉर्ड कहा जाता है।

लोन में RTR का फुल फॉर्म क्या होता है?

लोन में RTR का फुल फॉर्म Repayment Track Record होता है।

निष्कर्ष – RTR full form in Finance

दोस्तों, इस पोस्ट में हमने आपको RTR क्या है, RTR full form in Banking/Finance (RTR full form in Hindi) क्या होता है इसकी सम्पूर्ण जानकारी दी है। उम्मीद करते हैं आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और RTR को समझने में मदद मिली होगी।

अगर पोस्ट से सम्बंधित आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हम जल्द से जल्द आपके कमेंट का जवाब देने की कोशिश करेंगे। बाकी इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करके बाकी लोगो को भी इसकी जानकारी जरुर दें।

अन्य पढ़ें:-

Leave a Comment

Share via
Copy link