ASI Ka Full Form क्या है? | ASI Full Form in Hindi & English

इस पोस्ट में आपको एएसआई के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त होगी एएसआई क्या है, ASI ka full form क्या होता है (ASI meaning in Hindi), ASI के कार्य और योग्यता क्या हैं, एएसआई कैसे बनें इत्यादि, पूरी और सही जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को अंत तक ध्यान से पढ़ें।

क्या आप पुलिस डिपार्टमेंट में जॉब प्राप्त करना चाहते है और किसी प्रतिष्ठित पद की तलाश में हैं? यदि ऐसा है तो ASI आपके लिए बहुत ही अच्छा करियर ऑप्शन है।

एएसआई पुलिस डिपार्टमेंट में एक प्रतिष्ठित पद है जिसे प्राप्त करने का सपना आज कई युवक देखते हैं। इस पद की संपूर्ण जानकारी आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको देने वाले हैं इसलिए यदि आप जानना चाहते हैं कि ए एस आई का फुल फॉर्म (ASI Ka Full Form) क्या है? ए एस आई फुल फॉर्म इन हिंदी एंड इंग्लिश (ASI Full Form In Hindi And English) क्या है? एएसआई(ASI) क्या है? और ए एस आई बनने के लिए क्या करना पड़ता है? तो आप बिल्कुल सही जगह पहुंच चुके हैं।

समाज में कानून व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए अलग-अलग पदों पर भर्ती की जाती है जिनमें से एएसआई भी एक सरकारी पद है इसलिए आपको यह जानना जरूरी है कि एएसआई क्या होता है।

तो चलिए सबसे पहले शुरुआत करते हैं एएसआई के फुल फॉर्म से जहां आप इंग्लिश और हिंदी में एएसआई के फुल फॉर्म के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे।

ASI Ka Full Form क्या है? (ASI Full Form in Hindi & English)

ASI ka full form

जैसा कि आपने जाना एएसआई पुलिस डिपार्टमेंट का एक प्रतिष्ठित पद है इसलिए ये जानना जरूरी है कि इसका फुल फॉर्म क्या होता है।

एएसआई का फुल फॉर्म असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर (Assistant Sub Inspector) होता है।

A: Assistant

S: Sub

I: Inspector

आपके मन में यह सवाल भी आ रहा होगा कि एएसआई फुल फॉर्म इन हिंदी (ASI Full Form In Hindi) क्या है, तो हम आपको बता देते हैं कि एएसआई का हिंदी फुल फॉर्म सहायक उप निरीक्षक होता है।

A: Assistant (सहायक)

S: Sub (उप)

I: Inspector (निरीक्षक)

क्या आप एएसआई (ASI) बनना चाहते हैं? तो इसके लिए आपको सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि एएसआई क्या होता है, इसके पश्चात ही आप इसके चयन की प्रक्रिया के बारे में जान पाएंगे तो चलिए जानते हैं कि एएसआई क्या है।

ASI क्या है?

ए एस आई का पूरा नाम असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर है जिसे सहायक उप निरीक्षक कहा जाता है। यह पुलिस ऑफिसर होते हैं जिसका रैंक पुलिस हेड कांस्टेबल के ऊपर होता है और सब इंस्पेक्टर के नीचे होता है, जैसे कि भारतीय पुलिस बल में एक सहायक उपनिरीक्षक नियुक्त किए जाते हैं।

असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर अपने पद पर कार्यरत होकर कई महत्वपूर्ण कार्य संभालते हैं और इन्हें गैर राजपत्रित पुलिस अधिकारी भी कहा जाता है। असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर जांच अधिकारी के रूप में महत्वपूर्ण कार्य करते हैं, इनके यूनिफार्म पर एक सितारा लगा होता है और कंधे पर एक पट्टी होती है जिसके बाहरी किनारे पर लाल और नीले रंग का रिबन होता है, इन प्रतीकों की सहायता से ही इनकी पहचान की जाती है।

हालांकि इस पद की प्राप्ति करने के लिए उम्मीदवार को कई परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है क्योंकि जैसा कि हमने आपको बताया इन्हें मुख्य रूप से जांच अधिकारी बनाया जाता है अर्थात किसी भी जांच केंद्र का प्रभारी एएसआई होता है।

एएसआई ऑफिसर मुख्य रूप से सिक्योरिटी का जिम्मा उठाते हैं खासकर इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी में इनकी प्रमुख भूमिका होती है क्योंकि यहां सार्वजनिक क्षेत्र पर लोगों का आना जाना काफी होता है इसलिए इन स्थानों पर सुरक्षा की जरूरत भी ज्यादा होती है।

एएसआई ऑफिसर ही किसी हत्याकांड की जांच पड़ताल करता है और कोशिश करता है कि जल्द से जल्द मामले को सुलझाया जा सके। इसके अलावा भी कई महत्वपूर्ण कार्य एएसआई अधिकारी द्वारा किए जाते हैं जिसकी जानकारी आपको आगे मिलने वाली है।

एएसआई अधिकारी को ऊपर से आने वाले आदेशों के अनुसार कार्य करना होता है। यदि आप एएसआई अधिकारी बनना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ योग्यताएं भी निर्धारित की गई है।

आइए जानते हैं कि सरकार द्वारा किस योग्यता के आधार पर एएसआई पद के लिए उम्मीदवार की नियुक्ति की जाती है।

ASI के लिए योग्यता?

किसी भी सरकारी पद की प्राप्ति के लिए यह जरूरी है कि आप उस पद के लिए एलिजिबिलिटी रखते हैं अर्थात आप उसके योग्य हैं, यदि आप उस पद को प्राप्त करने की योग्यता रखते हैं तो आसानी से आपको उस पद के लिए नियुक्त कर लिया जाता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं एएसआई बनने के लिए आपके अंदर कौन-कौन सी योग्यता होनी चाहिए? यदि नहीं तो चलिए हम बताते हैं।

यहां जानने वाली बात यह है कि एएसआई बनने के लिए आपको परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है जो 5 चरणों में पूरी होती है जिसकी जानकारी आने वाले सेक्शन में आपको विस्तार पूर्वक हम बताएंगे।

इस परीक्षा के लिए निम्नलिखित योग्यता आपके पास होनी चाहिए:-

  • एएसआई बनने के लिए सबसे पहले आपको किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी करनी होगी जिसके पश्चात आपको एएसआई के लिए आवेदन देना होगा।
  • इस परीक्षा के अंतर्गत आयु सीमा 20 वर्ष से 25 वर्ष तक निर्धारित की गई है जहां अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए कुछ छूट प्रदान की जाती है।
  • एएसआई बनने के लिए आपको लिखित परीक्षा पास करनी होती है जिसके बाद आपको फिजिकल एक्जाम से गुजरना पड़ता है और कुछ जरूरी दस्तावेजों का सत्यापन भी करना पड़ता है।
  • इसके लिए आपके पास आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध होने चाहिए।
  • जब आप इस परीक्षा के सभी चरणों को पूरा कर लेते हैं तो आपको एएसआई अधिकारी बना दिया जाता है।
  • सहायक उप निरीक्षक (ASI) के पद के लिए पुरुष उम्मीदवार की ऊंचाई 172 सेमी होना जरुरी है जहां अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों के लिए ऊंचाई 169 सेमी निर्धारित की गई है।
  • वही सहायक उप निरीक्षक (ASI) के पद के लिए महिला उम्मीदवार की ऊंचाई 160 सेमी होना जरुरी है।

चलिए अब हम आपको बताते हैं कि एएसआई बनने के लिए क्या करना होता है, जहां आप जानेंगे कि कौन से पांच चरणों को आपको क्लियर करना होगा।

एएसआई कैसे बनें?

एएसआई बनने के लिए आपके अंतर्गत इस परीक्षा के लिए निर्धारित की गई योग्यता होनी चाहिए, इसके अलावा आपको इस परीक्षा के 5 चरणों को क्लियर करना होगा, तो आइए जानते हैं कि किस तरह यहां चयन प्रक्रिया पूरी की जाती है।

लिखित परीक्षा:

एएसआई बनने के लिए पहला चरण लिखित परीक्षा का होता है जहां उम्मीदवार से 100 प्रश्न पूछे जाते हैं। यहां उम्मीदवार को यह लाभ मिलता है कि इस परीक्षा में कोई माइनस मार्किंग नहीं है। लिखित परीक्षा का समय 120 मिनट का होता है और यदि उम्मीदवार इस चरण को क्लियर कर देता है तो उसे अगले चरण में बुलाया जाता है।

शारीरिक परीक्षा: 

एएसआई बनने की परीक्षा में दूसरा चरण है शारीरिक परीक्षा का जहां पुरुष और महिला दोनों ही प्रतिभागी हो सकते हैं, हालांकि दोनों के लिए निर्धारित योग्यताओं में थोड़ा अंतर होता है।

जहां पुरुष उम्मीदवार को 25 मिनट में 5 किलोमीटर दौड़ पूरी करनी होती है वही महिला उम्मीदवार के लिए 2.5 किलोमीटर दौड़ना निर्धारित है। जो प्रतिभागी इस चरण को पूरा कर लेते हैं उन्हें तीसरे चरण में बुलाया जाता है।

दस्तावेज़ सत्यापन: 

एएसआई बनने के तीसरे चरण में दस्तावेजों का सत्यापन किया जाता है। जो उम्मीदवार दूसरे चरण को पार कर लेते हैं उनसे दस्तावेजों की मांग की जाती है, यदि उनके पास सारे दस्तावेज उपलब्ध होते हैं और उनका सत्यापन हो जाता है तो उम्मीदवार को अगले चरण के लिए बुलाया जाता है।

चिकत्सा परीक्षा: 

दस्तावेज सत्यापन होने के पश्चात उम्मीदवार को मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है। यह परीक्षा का चौथा चरण है जहां स्वास्थ्य से संबंधित जांच किए जाते हैं। यदि उम्मीदवार इस परीक्षा में उत्तीर्ण हो जाता है तो उसे इस परीक्षा के आखिरी चरण में बुलाया जाता है।

साक्षात्कार:

एएसआई बनने के लिए आपको पांचवा चरण अर्थात इंटरव्यू से गुजरना होता है, यह चयन प्रक्रिया का आखरी चरण होता है जहां इंटरव्यू के माध्यम से उम्मीदवार को नियुक्त किया जाता है। इस चरण को क्लियर करते ही आपको एएसआई पद के लिए नियुक्त कर लिया जाता है। 

एएसआई के कार्य?

अब बात आती है एएसआई पद में कार्यरत अधिकारी के कार्यों की तो यदि आप एएसआई अधिकारी बन जाते हैं तो आपको निम्नलिखित आवश्यक कार्य करने होंगे:-

  • एसएसआई को जांच केंद्रों का प्रभारी बनाया जाता है अर्थात जांच पड़ताल से संबंधित सारे कार्य एएसआई को करने होते हैं।
  • सीमा सुरक्षा बलों में इनकी नियुक्ति की जाती है जहां यह दल के प्रभारी के रूप में कार्यरत होते हैं।
  • प्रशिक्षण केंद्रों में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है जहां यह मुख्य ड्रिल अधिकारी के रूप में ASI अधिकारी कार्य करते हैं।
  • सशस्त्र पुलिस के प्रशासनिक विभाग के अंतर्गत आने वाले कार्य भी ASI ही करता है।
  • सार्वजनिक क्षेत्रों में सिक्योरिटी का जिम्मा एसआई अधिकारी को दिया जाता है जैसे कि हवाई अड्डे में बहुत सारे लोगों का आना जाना रहता है जहां सिक्योरिटी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है इसलिए एएसआई अधिकारी को हवाई अड्डे में सिक्योरिटी का कार्यभार सौंपा जाता है।
  • इसके अलावा इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी में भी एएसआई अधिकारी नियुक्त किए जाते हैं।
  • किसी भी घटना की जांच पड़ताल एएसआई अधिकारी द्वारा की जाती है जहां सर्च ऑपरेशन का कार्य अधिकारी करता है। इसके अलावा किसी हत्याकांड जैसे मामलों में भी एएसआई अधिकारी जांच पड़ताल करते हैं।

तो यदि आप एएसआई अधिकारी बनना चाहते हैं तो इस तरह के महत्वपूर्ण कार्य आपको करने होंगे।

ASI से जुड़े सवाल जवाब (FAQS)

एएसआई का क्या काम होता है?

एएसआई (ASI) ऑफिसर मुख्य रूप से सिक्यूरिटी का जिम्मा उठाते हैं खासकर इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी में इनकी प्रमुख भूमिका होती है, क्योंकि यहां सार्वजनिक क्षेत्र पर लोगों का आना जाना काफी होता है इसलिए इन स्थानों पर सिक्यूरिटी की जरूरत भी ज्यादा होती है।

एएसआई के कितने स्टार होते हैं?

एसआई की यूनिफार्म पर एक सितारा लगा होता है और कंधे पर एक पट्टी होती है जिसके बाहरी किनारे पर लाल और नीले रंग का रिबन होता है, इन प्रतीकों की सहायता ASI की पहचान की जाती है।

निष्कर्ष – ASI Full Form in Police

दोस्तों, इस पोस्ट में हमने आपको एएसआई की सम्पूर्ण जानकारी साझा की है ASI क्या है, ASI ka full form क्या होता है (ASI full form in Hindi & English), एएसआई कैसे बनें, एएसआई के कार्य और योग्यता क्या हैं। उम्मीद करते हैं यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी और एएसआई के बारे में बहुत कुछ जानने के लिए मिला होगा।

अगर फिर भी एएसआई (ASI) से सम्बंधित आपका कोई सवाल है या आप कुछ पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, आप इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करके दुसरे स्टूडेंट्स को भी इसकी सही जानकारी दे सकते हैं।

अन्य पढ़ें:-

Leave a Comment

Share via
Copy link